17 Feb 2017

shiv shankar status for whatsapp

Happy Shivaratri 2 all. Bhagwan Bholenath,
I pray 2 u 4 all da people in dis world.
Plz give every1 happiness, peace & lots of smiles.
Dis is my prayer 4 2day.
Om Namah Shivaaye!

*****************************



Let us celebrate the Mahashivratree night!
The night of Shiva-Parvati union!
The night of destruction and the night of creation!
The night of the Lord of lords!
"Happy Shivaratri"

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

Bhole baba ka aashirwad mile aapko
Unki dua ka parsad mile aapko
Aap kare apni zindagi mein itni tarakki
Har kisi ka pyar mile aapko
Jai Bhole Shiv Shankar Baba Ki
"Happy Maha Shivratri"

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

Bhakti me hai shakti bandhu,
shakti me sansar hai,
Trilok me hai jiski charcha
un shiv ji ka aaj tyohar hai.
Om Namah Shivay.
**HAPPY MAHASHIVRATRI**

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

May Lord Shiva Answer
all your prayers
on Mahashivratri & always.
!!Om Namah Shivaya!!

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

Aaj hoga bholenath ka jaykar
man raha hai shivratri ka tyohaar
Jaagnge aaj hum sab saari raat
Kyoli aaj hai Bhagwan Shiv ki raat
**Happy Mahashivratri 2017**

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$


Shiv ki mahima aparampar! Shiv karte sabka udhar,
Unki kripa aap par sada bani rahe, aur bhole shankar
aapke jivan me khushi hi khushi bhar de.
OM NAMAH SHIVAY

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

Shivratri blessings to you and your family. May the almighty Lord Shiva bless you all with good things and perfect health

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

Bhagwan Bholenath, I pray to you for all the people in this world. Please give everyone happiness, peace and lots of smiles. This is my prayer for today. Om Namah Shivaaye!!

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

Heart gets Love;
Hand gets Rose;
And you get my best wishes on the birthday of Lord Shiva!
Happy Shivaratri…

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$


Bhagwan Bholenath, I pray to you for all the people in this world.
Please give everyone happiness, peace and lots of smiles.
This is my prayer for today.
Om Namah Shivaaye!!

$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

May Lord Shiva shower blessings on all and give power and strength to everyone facing difficulties in there lives.
Maha Shivratri ki bahut bahut shubhkamnayein.

@@@@@@@@@@@@@@@@
Read More »

7 Feb 2017

valentines day shayari 2017

Ajeeb Si Kashish Hai Aap Me
Ki Hum Aap Ke Khayalon Me Khoye Rehte Hai
Ye Soch Kar Ke Aap Khawabo Me Aao Gay
Hum Din Me Bhi Soya Karte Hai.




Honthon Se Pyaar Ke Fasaane Nahin Aate,
Sahil Pe Sumandar Ke Moti Nahin Aate,
Lelo Abhi Zindagi Mein Dosti Ka Mazaa,
Phir Laut Ke Hum Jaise Deewane Nahin Aate!
Valentine's Day Aapko Mubarak Ho...


Muskan Ho Tum Is Hotoon Ki,
Dhadkan Ho Tum Is Dil Ki,
Haasi Ho Tum Is Chere Ki,
Jaan Ho Tum Is Ruuh Ki..........


Tuze Jo Chaha Dil Se Hai,
Magar Lagta Nahi Aaj Kahe Paunga,
Yaaden Jo Dastan Baan Gayi Hai,
Ijahar Karke Mere Nasibe Ko Aajmaunga…..........


Hum tere sath chalenge tu chale na chale,Tera har dard sahenge tu kahe ya na kahe,Hum chahte hai ki tum sada khush raho,Hum chahe rahe ya na rahe…Happy Valentine Day.........


Teacher: bachcho kya tum jante
ho Qayamat kab aayegi?
Student: yes sir,
jab Vaillentine day aur Raksha
bandhan ek hi din hoga


hum ko hamise
hum ko hamise churalo dil me kahi thum chupalo,hum akele ko na jau,dur thum se ko na jau.pas akar gale se lagalo.



Maa ghar se nikalne nahi deti
.
.
Aur
.
.
Mujhe Valentine day pe jana hai!!!
HAPPY VALENTINE DAY!! ”


Dil Ne Jise Jindagibhar Chaha Hai
Aaj Karunga Mai Unse Ikrar,
Jiski Sadiyos Se Tammanah Ki Hai,
Unse Karunga Mere Pyar Ka Ijahaar.
Read More »

29 Jan 2017

valentine day special whatsapp status



May this Valentine's Day give you lot of love and Happiness...!!

I’ll love U until the day after forever.Happy Valentines Day...

Gul ne gulshan se gulfam bheja hai, sitaro ne gagan se salam bheja hai, Mubarak ho apko ye "VALENTINE'S DAY" Humne tahe dil se yeh paigam bheja hai.

The best smell in the world is that man that you love.Happy Valentines Day..

Ek ajnabi se mujhe_ itna pyaar kyon hai.. Inkar karne par_ chahat ka ikraar kyon hai, Use pana nahi meri taqdeer _mein shayad... Phir har mod pe usi ka _intezar kyon hai. Happy Valentine Day

 " I love you because the entire universe conspired to help me find you." - Paulo Coelho

"There is no remedy for love but to love more." – Henry David Thoreau

"I want to be one of those old couples you see still holding hands and laughing after fifty years of marriage. That's what I want. I want to be someone's forever." - Rachel Gibson

"Love is like a beautiful flower which I may not touch, but whose fragrance makes the garden a place of delight just the same." - Helen Keller

"All you need is love. But a little chocolate now and then doesn't hurt." - Charles M. Schulz

When you luv someone, it’s nothing. When someone loves you, it’s somthing. When u love someone & they love you back, it’s everything.

No poems no fancy words I just want the world to know that I LOVE YOU my Princess with all my heart.

Love is like a cloud… love is like a dream… love is 1 word and everything in between… love is a fairytale come true… I found love when I found you. Happy Valentine’s Day.

May this Valentine’s Day be filled with love, understanding, and contentment as you journey through life with those you hold dear. Happy Valentine’s Day

The best and most beautiful things in the world can’t be seen or even touched – they must be felt with the heart. As my love for you… Happy Valentine’s Day.

Love is like playing the piano. First you must learn to play by the rules, then you must forget the rules and play from your heart. Happy Valentine’s Day.

We’re two parts of a loving whole two hearts and a single soul. Happy Valentine’s Day

Love Quotes for Him. Happy Valentine’s Day.

Love is like a cloud… love is like a dream… love is 1 word and everything in between… love is a fairytale come true… I found love when I found you. Happy Valentine’s Day

I'll love U until the day after forever. Happy Valentines Day...

Dear singles.. HaPpY Sunday :p

If you live to be a hundred, I want to live to be a hundred minus one day, so I never have to live without you

Women are cursed, and men are the proof.

Did Adam and Eve ever have a date? No, but they had an Apple.

All you need is love.What would you call a woman who goes out with You? Desperate!

Love sought is good, but giv'n unsought is better

I married the first man I ever kissed. When I tell my children that, they just about throw up.

Love is a promise, love is a souvenir, once given never forgotten, never let it disappear.

Nothing is Good, but when I am with U everything is Good.

Never trust your heart because it's on the right side.

Kiss me, and you may see stars, love me and I will give them to you

I am waiting at the end of the
rainbow for you, my Prince

Love is like a cloud… love is like a dream… love is 1 word and everything in between… love is a fairytale come true… B’Coz I found love when I found U.
Happy valentines day

“Good thing I brought my library card, because I’m checkin’ you out.”

Love is the warm hug that extinguishes an argument.
Read More »

22 Jan 2017

Independence Day Desh Bhakti Whatsapp Status And Desh Bhakti Shayari in Hindi

 Independence Day Desh Bhakti Whatsapp Status And 
Desh Bhakti Shayari in Hindi
Toothpaste Mein Namak Ho Ya Na Ho,
Lekin...
Khoon Mein Desh Ka Namak Hona Zaroori Hai!


Chahe sher ki tarah laro ya geedar ki tarah, marenge tumhe hum kutton ki tarah.


Apne pyar ke liye maroge to aam hoge, watan ke liye maroge to kuch khaas hoge.


Hindustan jindabad tha aur rahega, jise shaq hai uske janaje par jindabad ke naare lagayenge hum sabhi.


apne pyar pe to marta hai har koi, apne watan pe marta hai koi koi.



Chadh Gaye Jo Hanskar Sooli,
Khayi Jinhone Seene Par Goli,
Hum Unko Pranaam Karte Hain,
Jo Mit Gaye Desh Par...
Hum Sab Unko Salaam Karte Hain!

Happy Republic Day!


Main Iskaa Hanumaan Hoon,
Yeh Desh Mera Ram Hai...
Chhaati Cheer Kar Dekh Lo!
Andar Baithaa Hindostaan Hai!!
Jai Hind... Jai Bhaarat!
Happy Republic Day!
desh bhakti sher
desh bhakti shayari hindi me
hindi desh bhakti poems



Read More »

12 Jan 2017

Swami Vivekanand Janm Jayanti Ke Avsar Par Unki Full Info Hindi Mai

स्वामी विवेकानन्द जी जयंती 12 जनवरी!!

स्वामी विवेकानंद जी आधुनिक भारत के एक महान चिंतक, दार्शनिक, युवा संन्यासी, युवाओं के प्रेरणास्त्रोत और एक आदर्श व्यक्तित्व के धनी थे । विवेकानंद दो शब्दों द्वारा बना है। विवेक+आनंद । विवेक संस्कृत मूल का शब्द है। विवेक का अर्थ होता है बुद्धि और आनंद का शब्दिक अर्थ होता है- खुशियों

स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी सन 1863  (विद्वानों के अनुसार #मकर संक्रान्ति संवत 1920) को #कलकत्ता में एक कायस्थ परिवार में हुआ था। उनके बचपन का नाम #नरेन्द्रनाथ दत्त था। पिता विश्वनाथ दत्त कलकत्ता हाईकोर्ट के एक प्रसिद्ध वकील थे।

  दुर्गाचरण दत्ता, (नरेंद्र के दादा) संस्कृत और फारसी के विद्वान थे उन्होंने अपने #परिवार को 25 वर्ष की उम्र में छोड़ दिया और साधु बन गए।

उनकी माता भुवनेश्वरी देवी धार्मिक विचारों की महिला थी। उनका अधिकांश समय भगवान शिव की पूजा-अर्चना में व्यतीत होता था। नरेंद्र के पिता और उनकी माँ के धार्मिक, #प्रगतिशील व तर्कसंगत रवैये ने उनकी सोच और व्यक्तित्व को आकार देने में मदद की ।

बचपन से ही #नरेन्द्र अत्यन्त कुशाग्र बुद्धि के तो थे ही नटखट भी थे। अपने साथी बच्चों के साथ वे खूब शरारत करते और मौका मिलने पर अपने अध्यापकों के साथ भी शरारत करने से नहीं चूकते थे। उनके घर में नियमपूर्वक रोज पूजा-पाठ होता था धार्मिक प्रवृत्ति की होने के कारण माता भुवनेश्वरी देवी को पुराण, रामायण, महाभारत आदि की कथा सुनने का बहुत शौक था। संत इनके घर आते रहते थे। नियमित रूप से #भजन-कीर्तन भी होता रहता था। #परिवार के धार्मिक एवं आध्यात्मिक वातावरण के प्रभाव से #बालक नरेन्द्र के मन में बचपन से ही धर्म एवं अध्यात्म के संस्कार गहरे होते गये। माता-पिता के संस्कारों और धार्मिक वातावरण के कारण बालक के मन में बचपन से ही #ईश्वर को जानने और उसे प्राप्त करने की लालसा दिखायी देने लगी थी। ईश्वर के बारे में जानने की उत्सुकता में कभी-कभी वे ऐसे प्रश्न पूछ बैठते थे कि इनके माता-पिता और कथावाचक पण्डितजी तक चक्कर में पड़ जाते थे।

स्वामी विवेकानन्द जी की शिक्षा..!!

सन् 1871 में, आठ साल की उम्र में नरेंद्रनाथ ने #ईश्वर चंद्र विद्यासागर के मेट्रोपोलिटन संस्थान में दाखिला लिया जहाँ वे स्कूल गए। 1877 में उनका परिवार रायपुर चला गया। 1879 में कलकत्ता में अपने परिवार की वापसी के बाद, वह एकमात्र छात्र थे जिन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज प्रवेश परीक्षा में प्रथम डिवीजन अंक प्राप्त किये ।

वे दर्शन, धर्म, इतिहास, सामाजिक विज्ञान, कला और साहित्य सहित विषयों के एक #उत्साही पाठक थे।इनकी वेद, उपनिषद, भगवद् गीता, रामायण, महाभारत और पुराणों के अतिरिक्त अनेक हिन्दू शास्त्रों में गहन रूचि थी। नरेंद्र को #भारतीय शास्त्रीय संगीत में प्रशिक्षित किया गया था और ये नियमित रूप से शारीरिक व्यायाम में व खेलों में भाग लिया करते थे। नरेंद्र ने पश्चिमी तर्क, पश्चिमी दर्शन और यूरोपीय इतिहास का अध्ययन जनरल असेंबली इंस्टिटूशन (अब स्कॉटिश चर्च कॉलेज) में किया। 1881 में इन्होंने ललित कला की परीक्षा उत्तीर्ण की, और 1884 में कला स्नातक की डिग्री पूरी कर ली।

नरेंद्र ने डेविड ह्यूम, इमैनुएल कांट, जोहान गोटलिब फिच, बारूक स्पिनोजा, जोर्ज डब्लू एच हेजेल, आर्थर स्कूपइन्हार , ऑगस्ट कॉम्टे, जॉन स्टुअर्ट मिल और चार्ल्स डार्विन के कामों का अध्यन किया। उन्होंने स्पेंसर की किताब एजुकेशन (1861) का बंगाली में अनुवाद किया।  ये हर्बर्ट स्पेंसर के विकासवाद से काफी मोहित थे।  #पश्चिम दार्शनिकों के अध्यन के साथ ही इन्होंने संस्कृत ग्रंथों और बंगाली साहित्य को भी सीखा।विलियम हेस्टी (महासभा संस्था के प्रिंसिपल) ने लिखा, "नरेंद्र वास्तव में एक जीनियस है। मैंने काफी विस्तृत और बड़े इलाकों में यात्रा की है लेकिन उनकी जैसी प्रतिभा वाला एक भी बालक कहीं नहीं देखा यहाँ तक कि जर्मन #विश्वविद्यालयों के दार्शनिक छात्रों में भी नहीं।" अनेक बार इन्हें श्रुतिधर( विलक्षण स्मृति वाला एक व्यक्ति) भी कहा गया है।

स्वामी विवेकानन्द जी की आध्यात्मिक शिक्षुता - ब्रह्म समाज का प्रभाव!!

1880 में नरेंद्र ईसाई से हिन्दू धर्म में रामकृष्ण के प्रभाव से परिवर्तित केशव चंद्र सेन की नव विधान में शामिल हुए, नरेंद्र 1884 से पहले कुछ बिंदु पर, एक फ्री मसोनरी लॉज और साधारण #ब्रह्म समाज जो ब्रह्म समाज का ही एक अलग गुट था और जो केशव चंद्र सेन और देवेंद्रनाथ टैगोर के नेतृत्व में था। 1881-1884 के दौरान ये सेन्स बैंड ऑफ़ होप में भी सक्रीय रहे जो धूम्रपान और शराब पीने से युवाओं को हतोत्साहित करता था।

यह नरेंद्र के परिवेश के कारण पश्चिमी आध्यात्मिकता के साथ परिचित हो गया था। उनके प्रारंभिक विश्वासों को ब्रह्म समाज ने (जो एक निराकार ईश्वर में विश्वास और मूर्ति पूजा का प्रतिवाद करते थे) ने प्रभावित किया और सुव्यवस्थित, युक्तिसंगत, अद्वैतवादी अवधारणाओं , धर्मशास्त्र ,वेदांत और उपनिषदों के एक चयनात्मक और आधुनिक ढंग से अध्ययन पर प्रोत्साहित किया।

स्वामी विवेकानन्द जी की निष्ठा..!!

एक बार किसी #शिष्य ने #गुरुदेव की #सेवा में घृणा और निष्क्रियता दिखाते हुए नाक-भौं सिकोड़ीं। यह देखकर विवेकानन्द को क्रोध आ गया। वे अपने उस गुरु भाई को सेवा का पाठ पढ़ाते और गुरुदेव की प्रत्येक वस्तु के प्रति प्रेम दर्शाते हुए उनके बिस्तर के पास रक्त, कफ आदि से भरी थूकदानी उठाकर पी गये । #गुरु के प्रति ऐसी अनन्य भक्ति और निष्ठा के प्रताप से ही वे अपने गुरु के शरीर और उनके दिव्यतम आदर्शों की उत्तम सेवा कर सके। गुरुदेव को समझ सके और स्वयं के अस्तित्व को गुरुदेव के स्वरूप में विलीन कर सके। और आगे चलकर समग्र विश्व में #भारत के अमूल्य आध्यात्मिक भण्डार की महक फैला सके।

 ऐसी थी उनके इस #महान व्यक्तित्व की नींव में गुरुभक्ति, गुरुसेवा और गुरु के प्रति अनन्य निष्ठा जिसका परिणाम सारे संसार ने देखा।

स्वामी विवेकानन्द अपना जीवन अपने #गुरुदेव #रामकृष्ण परमहंस को समर्पित कर चुके थे। उनके गुरुदेव का शरीर अत्यन्त रुग्ण हो गया था। गुरुदेव के शरीर-त्याग के दिनों में अपने घर और #कुटुम्ब की नाजुक हालत व स्वयं के भोजन की चिन्ता किये बिना वे गुरु की सेवा में सतत संलग्न रहे।

विवेकानन्द बड़े स्‍वप्न‍दृष्‍टा थे। #उन्‍होंने एक ऐसे समाज की कल्‍पना की थी जिसमें धर्म या जाति के आधार पर मनुष्‍य-मनुष्‍य में कोई भेद न रहे। उन्‍होंने वेदान्त के सिद्धान्तों को इसी रूप में रखा। अध्‍यात्‍मवाद बनाम भौतिकवाद के विवाद में पड़े बिना भी यह कहा जा सकता है कि समता के सिद्धान्त का जो आधार विवेकानन्‍द ने दिया उससे सबल बौद्धिक आधार शायद ही ढूँढा जा सके। #विवेकानन्‍द को युवकों से बड़ी आशाएँ थी।
आज के युवकों के लिये इस ओजस्‍वी सन्‍यासी का जीवन एक आदर्श है।

स्वामी विवेकानन्द जी यात्राएँ!!

25 वर्ष की अवस्था में नरेन्द्र ने गेरुआ वस्त्र धारण कर लिया था । तत्पश्चात उन्होंने पैदल ही पूरे #भारतवर्ष की यात्रा की। सन्‌ 1893 में शिकागो (अमरीका) में विश्व धर्म परिषद् हो रही थी। स्वामी विवेकानन्द उसमें भारत के प्रतिनिधि के रूप में पहुँचे। यूरोप-अमरीका के लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे।

वहाँ लोगों ने बहुत प्रयत्न किया कि स्वामी विवेकानन्द को सर्वधर्म परिषद् में बोलने का समय ही न मिले। परन्तु एक अमेरिकन प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें थोड़ा समय मिला। उस परिषद् में उनके विचार सुनकर सभी विद्वान चकित हो गये। फिर तो अमरीका में उनका अत्यधिक स्वागत हुआ। वहाँ उनके भक्तों का एक बड़ा समुदाय बन गया। तीन वर्ष वे #अमरीका में रहे और वहाँ के लोगों को भारतीय तत्वज्ञान की अद्भुत ज्योति प्रदान की। उनकी वक्तृत्व-शैली तथा ज्ञान को देखते हुए वहाँ के मीडिया ने उन्हें साइक्लॉनिक हिन्दू का नाम दिया।

"अध्यात्म-विद्या और भारतीय दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जायेगा" यह स्वामी विवेकानन्द का दृढ़ विश्वास था। अमरीका में उन्होंने #रामकृष्ण मिशन की अनेक #शाखाएँ स्थापित कीं। अनेक अमरीकी विद्वानों ने उनका शिष्यत्व ग्रहण किया। वे सदा अपने को 'गरीबों का सेवक' कहते थे। भारत के गौरव को देश-देशान्तरों में उज्ज्वल करने का उन्होंने सदा प्रयत्न किया।

स्वामी विवेकानन्दजी का योगदान !!

39 वर्ष के संक्षिप्त जीवनकाल में स्वामी #विवेकानन्द जो काम कर गये वे आने वाली अनेक शताब्दियों तक पीढ़ियों का मार्गदर्शन करते रहेंगे।

तीस वर्ष की आयु में स्वामी #विवेकानन्द ने #शिकागो, अमेरिका के #विश्व धर्म सम्मेलन में हिंदू धर्म का प्रतिनिधित्व किया और उसे सार्वभौमिक पहचान दिलवायी।

गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने एक बार कहा था-"यदि आप भारत को जानना चाहते हैं तो विवेकानन्द को पढ़िये। उनमें आप सब कुछ सकारात्मक ही पायेंगे, नकारात्मक कुछ भी नहीं।"

रोमारोला ने उनके बारे में कहा था-"उनके द्वितीय होने की कल्पना करना भी असम्भव है, वे जहाँ भी गये, सर्वप्रथम ही रहे। हर कोई उनमें अपने नेता का दिग्दर्शन करता था। वे ईश्वर के प्रतिनिधि थे और सब पर प्रभुत्व प्राप्त कर लेना ही उनकी विशिष्टता थी।

हिमालय प्रदेश में एक बार एक अनजान यात्री उन्हें देख ठिठक कर रुक गया और आश्चर्यपूर्वक चिल्ला उठा-‘शिव!’ यह ऐसा हुआ मानो उस व्यक्ति के #आराध्य देव ने अपना नाम उनके माथे पर लिख दिया हो।"


वे केवल सन्त ही नहीं, एक #महान देशभक्त, वक्ता, विचारक, लेखक और मानव-प्रेमी भी थे। अमेरिका से लौटकर उन्होंने #देशवासियों को आह्वान करते हुए कहा था-"नया भारत निकल पड़े मोची की दुकान से, भड़भूँजे के भाड़ से, कारखाने से, हाट से, बाजार से; निकल पडे झाड़ियों, जंगलों, पहाड़ों, पर्वतों से।" और जनता ने स्वामीजी की पुकार का उत्तर दिया। वह गर्व के साथ निकल पड़ी। #गान्धीजी को आजादी की लड़ाई में जो जन-समर्थन मिला, वह विवेकानन्द के आह्वान का ही फल था।

इस प्रकार वे #भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के भी एक प्रमुख प्रेरणा-स्रोत बने। उनका विश्वास था कि पवित्र भारतवर्ष धर्म एवं दर्शन की पुण्यभूमि है। यहीं बड़े-बड़े महात्माओं व ऋषियों का जन्म हुआ, यही संन्यास एवं त्याग की भूमि है तथा यहीं-केवल यहीं-आदिकाल से लेकर आज तक मनुष्य के लिये जीवन के सर्वोच्च आदर्श एवं मुक्ति का द्वार खुला हुआ है।

उनके कथन-"‘उठो, जागो, स्वयं जागकर औरों को जगाओ। अपने नर-जन्म को सफल करो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाये।"

उन्नीसवीं सदी के आखिरी वर्षोँ में विवेकानन्द लगभग सशस्त्र या हिंसक क्रान्ति के जरिये भी देश को आजाद करना चाहते थे। परन्तु उन्हें जल्द ही यह विश्वास हो गया था कि परिस्थितियाँ उन इरादों के लिये अभी परिपक्व नहीं हैं। इसके बाद ही विवेकानन्द जी ने ‘एकला चलो‘ की नीति का पालन करते हुए एक परिव्राजक के रूप में भारत और दुनिया को खंगाल डाला।

उन्होंने कहा था कि #मुझे बहुत से युवा संन्यासी चाहिये जो भारत के ग्रामों में फैलकर देशवासियों की सेवा में खप जायें।  विवेकानन्दजी पुरोहितवाद, धार्मिक आडम्बरों, कठमुल्लापन और रूढ़ियों के सख्त खिलाफ थे। उन्होंने धर्म को मनुष्य की सेवा के केन्द्र में रखकर ही आध्यात्मिक चिंतन किया था। उनका हिन्दू धर्म अटपटा, लिजलिजा और वायवीय नहीं था।

विवेकानन्द जी इस बात से आश्वस्त थे कि #धरती की गोद में यदि ऐसा कोई देश है जिसने मनुष्य की हर तरह की बेहतरी के लिए ईमानदार कोशिशें की हैं, तो वह भारत ही है।

उन्होंने पुरोहितवाद, ब्राह्मणवाद, धार्मिक कर्मकाण्ड और रूढ़ियों की खिल्ली भी उड़ायी और लगभग आक्रमणकारी भाषा में ऐसी विसंगतियों के खिलाफ युद्ध भी किया। उनकी दृष्टि में हिन्दू धर्म के #सर्वश्रेष्ठ चिन्तकों के विचारों का निचोड़ पूरी दुनिया के लिए अब भी ईर्ष्या का विषय है। #स्वामीजी ने संकेत दिया था कि विदेशों में भौतिक समृद्धि तो है और उसकी भारत को जरूरत भी है लेकिन हमें याचक नहीं बनना चाहिये। हमारे पास उससे ज्यादा बहुत कुछ है जो हम पश्चिम को दे सकते हैं और पश्चिम को उसकी बेसाख्ता जरूरत है।

यह स्वामी विवेकानन्द का अपने देश की धरोहर के लिये दम्भ या बड़बोलापन नहीं था। यह एक वेदान्ती #साधु की भारतीय सभ्यता और संस्कृति की तटस्थ, वस्तुपरक और मूल्यगत आलोचना थी। बीसवीं सदी के इतिहास ने बाद में उसी पर मुहर लगायी।

स्वामी विवेकानन्द जी की महासमाधि!!

विवेकानंद #ओजस्वी और सारगर्भित व्याख्यानों की प्रसिद्धि #विश्व भर में है। जीवन के अन्तिम दिन उन्होंने शुक्ल यजुर्वेद की व्याख्या की और कहा-"एक और विवेकानन्द चाहिये, यह समझने के लिये कि इस #विवेकानन्द ने अब तक क्या किया है।" उनके शिष्यों के अनुसार जीवन के अन्तिम दिन 4 जुलाई 1902 को भी उन्होंने अपनी ध्यान करने की दिनचर्या को नहीं बदला और प्रात: दो तीन घण्टे ध्यान किया और ध्यानावस्था में ही अपने ब्रह्मरन्ध्र को भेदकर #महासमाधि ले ली। बेलूर में #गंगा तट पर चन्दन की चिता पर उनकी अंत्येष्टि की गयी। #इसी गंगा तट के दूसरी ओर उनके गुरु रामकृष्ण परमहंस का सोलह वर्ष पूर्व अन्तिम संस्कार हुआ था।

उनके शिष्यों और अनुयायियों ने उनकी स्मृति में वहाँ एक #मन्दिर बनवाया और समूचे विश्व में विवेकानन्द तथा उनके गुरु #रामकृष्ण के सन्देशों के प्रचार के लिये 130 से अधिक केन्द्रों की स्थापना की।

स्वामी विवेकानन्द जी की महत्त्वपूर्ण तिथियाँ!!

12 जनवरी 1863 -- कलकत्ता में जन्म

1879 -- प्रेसीडेंसी कॉलेज कलकत्ता में प्रवेश

1880 -- जनरल असेम्बली इंस्टीट्यूशन में प्रवेश

नवंबर 1881 -- रामकृष्ण परमहंस से प्रथम भेंट

1882-86 -- रामकृष्ण परमहंस से सम्बद्ध

1884 -- स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण; पिता का स्वर्गवास

1885 -- रामकृष्ण परमहंस की अन्तिम बीमारी

16 अगस्त 1886 -- रामकृष्ण परमहंस का निधन

1886 -- वराहनगर मठ की स्थापना

जनवरी 1887 -- वराह नगर मठ में संन्यास की औपचारिक प्रतिज्ञा

1890-93 -- परिव्राजक के रूप में भारत-भ्रमण

25 दिसम्बर 1892 -- कन्याकुमारी में

13 फ़रवरी 1893 -- प्रथम सार्वजनिक व्याख्यान सिकन्दराबाद में

31 मई 1893 -- मुम्बई से अमरीका रवाना

25 जुलाई 1893 -- वैंकूवर, कनाडा पहुँचे

30 जुलाई 1893 -- शिकागो आगमन

अगस्त 1893 -- हार्वर्ड विश्वविद्यालय के प्रो॰ जॉन राइट से भेंट

11 सितम्बर 1893 -- विश्व धर्म सम्मेलन, शिकागो में प्रथम व्याख्यान

27 सितम्बर 1893 -- विश्व धर्म सम्मेलन, शिकागो में अन्तिम व्याख्यान

16 मई 1894 -- हार्वर्ड विश्वविद्यालय में संभाषण

नवंबर 1894 -- न्यूयॉर्क में वेदान्त समिति की स्थापना

जनवरी 1895 -- न्यूयॉर्क में धार्मिक कक्षाओं का संचालन आरम्भ

अगस्त 1895 -- पेरिस में

अक्टूबर 1895 -- लन्दन में व्याख्यान

6 दिसम्बर 1895 -- वापस न्यूयॉर्क

22-25 मार्च 1896 -- फिर लन्दन

मई-जुलाई 1896 -- हार्वर्ड विश्वविद्यालय में व्याख्यान

15 अप्रैल 1896 -- वापस लन्दन

मई-जुलाई 1896 -- लंदन में धार्मिक कक्षाएँ

28 मई 1896 -- ऑक्सफोर्ड में मैक्समूलर से भेंट

30 दिसम्बर 1896 -- नेपाल से भारत की ओर रवाना

15 जनवरी 1897 -- कोलम्बो, श्रीलंका आगमन

जनवरी, 1897 -- रामनाथपुरम् (रामेश्वरम) में जोरदार स्वागत एवं भाषण

6-15 फ़रवरी 1897 -- मद्रास में

19 फ़रवरी 1897 -- कलकत्ता आगमन

1 मई 1897 -- रामकृष्ण मिशन की स्थापना

मई-दिसम्बर 1897 -- उत्तर भारत की यात्रा

जनवरी 1898 -- कलकत्ता वापसी

19 मार्च 1899 -- मायावती में अद्वैत आश्रम की स्थापना

20 जून 1899 -- पश्चिमी देशों की दूसरी यात्रा

31 जुलाई 1899 -- न्यूयॉर्क आगमन

22 फरवरी 1900 -- सैन फ्रांसिस्को में वेदान्त समिति की स्थापना

जून 1900 -- न्यूयॉर्क में अन्तिम कक्षा

26 जुलाई 1900 -- यूरोप रवाना

24 अक्टूबर 1900 -- विएना, हंगरी, कुस्तुनतुनिया, ग्रीस, मिस्र आदि देशों की यात्रा

26 नवम्बर 1900 -- भारत रवाना

9 दिसम्बर 1900 -- बेलूर मठ आगमन

10 जनवरी 1901 -- मायावती की यात्रा

मार्च-मई 1901 -- पूर्वी बंगाल और असम की तीर्थयात्रा

जनवरी-फरवरी 1902 -- बोध गया और वाराणसी की यात्रा

मार्च 1902 -- बेलूर मठ में वापसी

4 जुलाई 1902 -- महासमाधि!!

Read More »